गोडावण: राजस्थान का राज्य पक्षी

गोडावण वन्यजीव संरक्षण कानून 1972 के शेड्यूल 1 के तहत संरक्षित पक्षी है। इसके अलावा 2020 में जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण पर हुए कन्वेंशन में भी “गोडावण को अति दुर्लभतम पक्षी” माना गया। वर्तमान में पूरे विश्व में सिर्फ राजस्थान में ही ये पाए जाते हैं.

यह सर्वाहारी पक्षी है। इसकी खाद्य आदतों में गेहूँ, ज्वार, बाजरा आदि अनाजों का भक्षण करना शामिल है किंतु इसका प्रमुख खाद्य टिड्डे आदि कीट है। यह साँप, छिपकली, बिच्छू आदि भी खाता है।

1981 में, गोडावन को राजस्थान का राज्य पक्षी घोषित किया गया था। इसे ग्रेट इंडियन बस्टर्ड भी कहा जाता है।

दुनिया में सबसे भारी उड़ने वाले पक्षियों में से एक गोडावण की लंबाई 1.2 मीटर तक हो सकती है और इसका वजन 15 किलोग्राम तक हो सकता है.

गोडावण को बोलचाल में सोन चिड़िया, हुकना व गुरायिन जैसे नाम से भी बुलाया जाता है। एक मीटर से अधिक ऊंचा यह पक्षी उड़ने वाले सभी में सबसे अधिक वजनी माना जाता है।

1981 में, गोडावन को राजस्थान का राज्य पक्षी घोषित किया गया था। इसे ग्रेट इंडियन बस्टर्ड भी कहा जाता है।

सोहन चिरैया अथवा गोडावण भूरे रंग का होता है, जिसके पंखों पर काले, भूरे और स्लेटी रंग के निशान होते हैं। इसकी गर्दन शुतुरमुर्ग कि भाँति लंबी और हल्की भूरे रंग कि होती है, नर कि गर्दन मादा से अधिक सफेद होती हैं

गोडावण (ग्रेट इंडियन बस्टर्ड) राजस्थान का राजकीय पक्षी है। आमतौर पर मरुभूमि राष्ट्रीय उद्यान में पाया जाता है क्योंकि इसका प्राकृतिक आवास एक शुष्क और अर्ध-शुष्क क्षेत्र है।

गोडावण का प्रिय भोजन टिड्डियां है।

सामन्यतः मादा 1 अंडा देती है, लेकिन वर्ष 2020 में राजस्थान में टिड्डी दल के हमले के बाद इन्हें अत्यधिक प्रोटीन युक्त खाना मिलने से कई वर्ष बाद कई मादाओं ने 2-2 अंडे दिए, ऐसे में कहा जाता है कि गोडावण ब्रीडिंग काल के साथ परिस्थितियों के अनुसार अंडे देती और प्रजनन के लिए खुद को तैयार करती 

जैसलमेर की सेवण घास (Lasiurus sindicus) इसके लिए उपयुक्तयह जैसलमेर के मरू उद्यान, सोरसन (बारां) व अजमेर के शोकलिया क्षेत्र में पाया जाता है। राष्ट्रीय मरु उद्यान (डेज़र्ट नेशनल पार्क) को गोडावण की शरणस्थली भी कहा जाता है।
यह पक्षी अत्यंत ही शर्मिला है और सघन घास में रहना इसका स्वभाव है।
जैसलमेर की सेवण घास (Lasiurus sindicus) इसके लिए उपयुक्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here