बौद्ध धर्म महत्वपूर्ण जानकारी

बौद्ध जन्म 563 ईसा पूर्व नेपाल की तराई में स्थित कपिलवस्तु के समीप लुंबिनी नामक स्थान पर इक्ष्वाकु वंशीय क्षत्रिय शाक्य कुल के राजा शुद्धोधन के घर में हुआ था। उनकी माँ का नाम महामाया था जो कोलीय वंश से थीं, जिनका इनके जन्म के सात दिन बाद निधन हुआ।

बौद्ध धर्म महत्वपूर्ण  जानकारी
बौद्ध धर्म महत्वपूर्ण जानकारी 2

उनका पालन महारानी की छोटी सगी बहन महाप्रजापती गौतमी ने किया। इनका एक मात्र प्रथम नवजात शिशु राहुल और धर्मपत्नी यशोधरा को त्यागकर संसार को जरा, मरण, दुखों से मुक्ति दिलाने के मार्ग एवं सत्य दिव्य ज्ञान की खोज में रात्रि में राजपाठ का मोह त्यागकर वन की ओर चले गए।

  • 35 वर्ष की आयु में गया( बिहार)मे उरुवेला नामक स्थान पर पीपल वृक्ष के नीचे निरंजना (फल्गु) नदी के तट पर इनको वैशाख पूणिमा के दिन कठोर साधना के पश्चात उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई और वे सिद्धार्थ गौतम से भगवान बुद्ध बन गया।

महत्वपूर्ण शब्दावली

  • गृह त्याग की घटना को को [महाभिनिष्क्रमण] कहा जाता है।
  • महात्मा ने अपना प्रथम उपदेश दिया सारनाथ उस जगह को [धर्मचक्रप्रवर्तन] कहा जाता है।
  • बौद्ध धर्म मे तृष्णा मे लीन होने की अवस्था को [ निर्वाण] कहा जाता है।
  • महात्मा बुद्ध की मृत्यु को [ महापरिनिर्वाण] कहा जाता है।
  • महात्मा बुद्ध ने 8 मार्गा के अनुसरण द्वारा निर्वाण सम्भव बताया जिसे [अष्टांगिकमार्ग] कहा जाता हैं।

बौद्ध धर्म की प्रमुख महासगीतियां

संगीतिसमयस्थानशासकसंगीत अध्यक्ष
प्रथम 483 ई.पू .सप्तपणि॔ गुफा(राजगृह ) बिहार अजातशत्रु (हर्यक वंश)महाकश्यप
द्वितीय 383 ई.पू.चुल्लबंग
(वैशाली, बिहार)
कालाअशोक(शिशुनाग वंश)सब्बकामि
तृतीय 250 ई . पू.पाटलिपुत्र अशोक (मौर्य वंश)मोग्गलिपुत तिस्स
चतुर्थ72 ई.पू.कुण्डलिनी (कश्मीर)कनिष्क (कुषाण वंश)वसुमित्र
बौद्ध धर्म के त्रिरत्न : बुद्ध, धम्म,संघ

निष्कर्ष-

बौद्ध धर्म के स्थापंक महात्मा बुद्ध के जीवन हमें शिक्षा मिलती है कि कोई भी दुःख मनुष्य के जीवन मे सदैव के लिए नही रहता है दुःखो पर निवारण पाना मनुष्य का प्रथम लक्ष्य होना चाहिए। अतः बुद्ध धर्म इतिहास का बहुत बड़ा पदहै। मेरे द्वारा कुछ मह्त्वपूर्ण जानकारी को पुरा करने की कोशिश की गई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here